Aquaboutic | Focus Security Research | Vulnerability Exploit | POC

Home

अनुच्छेद 370 हटने का दर्द पाक और केजरीवाल को हुआ था

Posted by muschett at 2020-02-19
all

उप्र के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ नई दिल्ली/भाषा। उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने रविवार को कहा कि जम्मू-कश्मीर को विशेष दर्जा देने वाले अनुच्छेद 370 के अधिकतर प्रावधान जब समाप्त किए गए थे, तब दर्द पाकिस्तान और आप प्रमुख अरविंद केजरीवाल को हुआ था। साथ ही, योगी आदित्यनाथ ने शाहीनबाग में प्रदर्शन को ‘शांति और सामान्य जीवन में खलल डालने का एक दुर्भावनापूर्ण प्रयास’ करार दिया। उन्होंने दक्षिण दिल्ली के बदरपुर में एक रैली को संबोधित करते हुए कहा, जब अनुच्छेद 370 के अधिकतर प्रावधान समाप्त किए गए थे तब दर्द पाकिस्तान और अरविंद केजरीवाल को हुआ था। उन्होंने कहा कि दिल्ली चुनावों में एक ओर नरेंद्र मोदी का नेतृत्व विकास और राष्ट्रवाद के समर्थन में खड़ा है, वहीं दूसरी ओर कांग्रेस और केजरीवाल हैं जो ‘विभाजनकारी ताकतों का समर्थन करते हैं।’ उन्होंने कहा, भाजपा आतंकवाद के प्रति बिल्कुल भी बर्दाश्त नहीं करने की नीति पर काम कर रही है लेकिन केजरीवाल शाहीन बाग को प्रायोजित कर रहे हैं और वहां बिरयानी पहुंचा रहे हैं। योगी ने बदरपुर विधानसभा क्षेत्र के लोगों से भाजपा के पक्ष में वोट करने की अपील की और कहा कि पूरे देश और विश्व की उन पर नजर है कि वे दिल्ली विधानसभा चुनाव में किसका समर्थन करते हैं। उन्होंने शाहीनबाग के प्रदर्शनकारियों के उद्देश्य पर सवाल उठाते हुए आरोप लगाया कि यह ‘अनुच्छेद 370 के अधिकतर प्रावधान समाप्त करने, राममंदिर पर अदालत के फैसले और तीन तलाक पर रोक का विरोध करने का एक बहाना है।’उन्होंने कहा, शाहीन बाग प्रदर्शन एक बहाना है। उन्हें अनुच्छेद 370 के अधिकतर प्रावधान समाप्त करने और अयोध्या में भव्य राममंदिर निर्माण का विरोध करना है। हम उनकी परेशानी समझ सकते हैं। उनकी परेशानी तीन तलाक पर रोक से है।

आदित्यनाथ ने दिल्ली में विभिन्न सरकारी योजनाओं को बाधित करने के लिए केजरीवाल सरकार की आलोचना की। उन्होंने कहा कि भाजपा दिल्ली में सरकार बनने के बाद इन योजनाओं को लागू करेगी जिसमें किसान सम्मान निधि और आयुष्मान भारत स्वास्थ्य योजना शामिल है। योगी ने कहा कि उन्होंने शांतिपूर्ण कांवर यात्रा सुनिश्चित की। योगी ने कहा कि उन्होंने चेतावनी दी थी कि जो इस पर हमला करने का प्रयास करेंगे, उन्हें पुलिस की गोलियों का सामना करना पड़ेगा।